Republic Day Shayari: ऐ शांति अहिंसा की उड़ती हुई परी, आ तू भी आ कि आ गई छब्बीस जनवरी…पढ़ें चुनिंदा शायरी

Republic Day Shayari: ऐ शांति अहिंसा की उड़ती हुई परी, आ तू भी आ कि आ गई छब्बीस जनवरी...पढ़ें चुनिंदा शायरी

Republic Day 2021: गणतंत्र दिवस पर पढ़ें चुनिंदा शायरी

नई दिल्ली :

26 January Shayari: गणतंत्र दिवस यानी 26 जनवरी के दिन दिल्ली के राजपथ पर परेड निकाली जाती है और भारत के राष्ट्रपति इस परेड (Republic Day Parade) की सलामी लेते हैं. गणतंत्र दिवस का आयोजन 26 जनवरी 1950 में भारत के संविधान के लागू होने के उपलक्ष्य में मनाया जाता है. भारत पर अंग्रेजों ने 200 साल तक राज किया था और 15 अगस्त 1947 (स्वतंत्रता दिवस) को देश आजाद हुआ था. इस गणतंत्र दिवस (Republic Day 2021) पर 32 झांकियां (Tableaux) निकलेंगी जिसमें 17 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों, 9 मंत्रालयों और भारतीय वायु सेना, जल सेना, इंडियन नेवल कोस्ट गार्ड, डीआरडीओ की दो और बॉर्डर रोड्स ऑर्गेनाइजेशन की एक होगी. गणतंत्र दिवस पर शायरी का भी खास महत्व है और इस मौके को कई शायरों ने बहुत ही खूबसूरत शायरी (Republic Day Shayari) के साथ बयां किया है. आइए एक नजर डालते हैं 26 जनवरी की शायरी (Republic Day Shayari) पर…

यह भी पढ़ें

हिन्दोस्तान खुश है 

हर पासबान खुश है 

हर नौ-जवान खुश है 

सारा जहान खुश है 

एक जोश-ए-सरमदी है 

छब्बीस जनवरी है 
-कंवल डिबाइवी

सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है 

देखना है जोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में है 
-बिस्मिल अजीमाबादी

दिल से निकलेगी न मर कर भी वतन की उल्फ़त 

मेरी मिट्टी से भी खुशबू-ए-वफ़ा आएगी 
-लाल चन्द फलक

लहू वतन के शहीदों का रंग लाया है 

उछल रहा है जमाने में नाम-ए-आजादी 
-फिराक गोरखपुरी

Newsbeep

आज फिर है हमें ख़ुशी ऐ दोस्त 

आई छब्बीस जनवरी ऐ दोस्त 

यानी तारीख वो कि जब भारत 

पा गया अपनी गुम-शुदा दौलत 

हम जमाने में बारयाब हुए 

अपने मकसद में कामयाब हुए 
-आदिल जाफरी

See also  रुबिना दिलैक करवा रही थीं पेडिक्योर तभी बजने लगा उनका फेवरिट सॉन्ग, एक्ट्रेस करने लगीं डांस- देखें Video

ऐ शांति अहिंसा की उड़ती हुई परी 

आ तू भी आ कि आ गई छब्बीस जनवरी 
-नजीर बनारसी

Source by [author_name]

Leave a Comment

close