Hug Day 2021: अजनबी मुझ से आ गले मिल ले, आज इक दोस्त याद आए मुझे…Hug Day पर रोमांटिक शायरी

Hug Day 2021: अजनबी मुझ से आ गले मिल ले, आज इक दोस्त याद आए मुझे...Hug Day पर रोमांटिक शायरी

Happy Hug Day 2021: हग डे (Hug Day Shayari) पर पढ़ें रोमांटिक शायरी (Romantic Shayari)

खास बातें

  • 14 फरवरी को आता है वैलेंटाइंस डे
  • 13 फरवरी को आता है किस डे
  • 12 फरवरी को आता है हग डे

नई दिल्ली :

Happy Hug Day 2021: हग डे (Hug Day) हर साल 12 फरवरी को आता है. वैलेंटाइन वीक में इसका अगला दिन किस डे (Kiss Day) होता है. 14 फरवरी को वैलेंटाइन्स डे (Valentine’s Day 14 February) सेलिब्रेट किया जाता है. हग डे (Hug Day 2021) के अपने ही मायने हैं क्योंकि अपने इश्क को गले लगाने का सुकून एक आशिक ही जान सकता है. इसी बात को उर्दू शायरों ने अपने अंदाज में शब्दों में पिरोया भी है. Hug को उर्दू में आगोश कहा जाता है. गले लगाने पर उर्दू शायरों ने खूब शायरी की है. Hug Day 2021 के मौके पर रोमांटिक शायरी (Romantic Shayari) पेश है, जिसे व्हाट्सऐप (WhatsApp Status), फेसबुक (Facebook) और एसएमएस (SMS) के जरिये अपने प्रेम को भेज सकते हैं. Hug Day पर उर्दू शायरों (Urdu Poets) के चुनिंदा शेरों का यहां संकलन किया गया है.

यह भी पढ़ें

Happy Hug Day 2021: हग डे (Hug Day Shayari) पर इश्क से सराबोर शेरः 

मिल के होती थी कभी ईद भी दीवाली भी

अब ये हालत है कि डर डर के गले मिलते हैं
अज्ञात

रात दिन तू है मिरी आग़ोश में

मैं तिरा साहिल मिरा दरिया है तू
क़ाएम चाँदपुरी

देखना कैसे पिघलते जाओगे

जब मिरी आग़ोश में तुम आओगे
आज़िम कोहली

See also  Neetu Kapoor ने बेटे रणबीर कपूर के 'घाघरा' सॉन्ग पर यूं किया जबरदस्त डांस, धूम मचा रहा है Video

आग़ोश की हसरत को बस दिल ही में मारुँगा

अब हाथ तिरी ख़ातिर फैलाऊँ तो कुछ कहना
मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी

आज आग़ोश में था और कोई

देर तक हम तुझे न भूल सके
फ़िराक़ गोरखपुरी

वो तो ख़ुश्बू है हर इक सम्त बिखरना है उसे

दिल को क्यूँ ज़िद है कि आग़ोश में भरना है उसे
सदा अम्बालवी

ख़ूब मिल कर गले से रो लेना

इस से दिल की सफ़ाई होती है
हक़ीर

जान ये सरकशी-ए-जिस्म तिरे बस की नहीं

मेरी आग़ोश में आ ला ये मुसीबत मुझे दे
फ़रहत एहसास

Newsbeep

अजनबी मुझ से आ गले मिल ले

आज इक दोस्त याद आए मुझे
आसिफ़ रज़ा

क़रीब-ए-मर्ग हूँ लिल्लाह आईना रख दो

गले से मेरे लिपट जाओ फिर निखर लेना
आग़ा हज्जू शरफ़

Source by [author_name]

Leave a Comment

close