Movie Review

Hiccups and Hookups review: प्रतीक बब्‍बर और लारा दत्ता की मजेदार कॉमेडी-केम‍िस्‍ट्री द‍िल जीत लेगी

हिचकी और हुकअप की समीक्षा: बॉलीवुड के बड़े सितारे इन दिनों वेब की दुनिया में कदम रख रहे हैं. फैंस रवीना टंडन, अजय देवगन, माधुरी दीक्षित जैसे सितारों के वेब की दुनिया में आने का इंतजार कर रहे हैं। लेकिन इस शुक्रवार बॉलीवुड एक्ट्रेस लारा दत्ता और प्रतीक बब्बर को आप उनकी नई वेब सीरीज ‘हिकअप्स एंड हुकअप्स’ में जरूर देख सकते हैं। 7 एपिसोड की ये वेब सीरीज आज लायंसगेट प्ले पर रिलीज हो गई है.

कहानी: यह कहानी है बैंगलोर में रहने वाली एक 39 वर्षीय सिंगल मदर वसुधा राव (लारा दत्ता) की, जो अपनी किशोर बेटी कावन्या खट्टर (शिनोवा) और छोटे भाई अखिल राव (शिनोवा) के साथ रहती है।प्रतीक बब्बर) साथ रहता है। अखिल कमिटमेंट से डरता है और कैजुअल रिलेशनशिप में ही विश्वास रखता है। इस सीरीज में इन तीनों की सेक्सुअल लाइफ और रिलेशनशिप की दुनिया को दिखाया गया है। पति के धोखे के बाद हाल ही में तलाक लेने वाली वसुधा 39 साल की उम्र में डेटिंग ऐप ‘केचप’ पर आती हैं। इस ऐप को अखिल ने ही बनाया है। मेरे भाई और दोस्त फातिमा (मीरा चोपड़ा) उसके कहने पर वसुधा इस डेटिंग ऐप का इस्तेमाल कैजुअल सेक्स के लिए करती है और उसके जीवन में कई रोमांच शुरू हो जाते हैं। वहीं दूसरी तरफ वसुधा की टीनएज बेटी भी अपनी डेटिंग लाइफ को लेकर कंफ्यूज है और अखिल अब जिंदगी में रहना चाहता है. यह वेब सीरीज इन तमाम रिश्तों की मजेदार कहानी है।

निर्देशक कुणाल कोहलीजो पहले ‘तुम और मैं‘ और ‘फनाह’ जैसा कि हम दिल को छू लेने वाली प्रेम कहानी लेकर आए हैं, इस बार हम वेब की दुनिया में एक नए जमाने का फनी ड्रामा लेकर आए हैं। इंटरनेट के कंटेंट को लेकर कई नियम नहीं हैं, ऐसे में आपको वेब शो में अश्लील भाषा से लेकर जबरदस्ती इंटीमेट सेक्स सीन तक बहुत कुछ देखने को मिल जाता है। लेकिन इस वेब सीरीज की सबसे अच्छी बात यह है कि इस सीरीज में कोई जबरदस्ती सेक्स सीन नहीं है जिसके टाइटल में ही ‘हुकअप’ का जिक्र हो। बल्कि ज्यादातर सीन कहानी की जरूरत को सपोर्ट करते नजर आते हैं और इसके लिए पूरे प्लॉट और डायरेक्टर कुणाल कोहली की तारीफ की जानी चाहिए। रिश्तों और कैजुअल सेक्स के इर्द-गिर्द बुनी गई यह कहानी इस विषय पर धीरे से कुछ नया करती है।

इस वेब सीरीज को लायंसगेट प्ले (Lionstage Play) पर रिलीज किया गया है।

दरअसल इस सीरीज के टाइटल में है कि ये फैमिली ‘नो फिल्टर’ है और ये आप शो देखकर कह सकते हैं. एक सीन में कावन्या अपने बॉयफ्रेंड के साथ कमरे में हैं और उनके मामा अखिल और मां वसुधा अपनी-अपनी डेट्स पर घर से बाहर जा रहे हैं। आप इस दृश्य से ही अंदाजा लगा सकते हैं कि यह परिवार कितना आधुनिक और अलग है। कई मजेदार सीन हैं जो आपको हंसाएंगे।

कहानी की असल जिंदगी लारा दत्ता और प्रतीक बब्बर के बीच मजेदार केमिस्ट्री और कूल रिलेशनशिप है। हालांकि ये दोनों भाई-बहन हैं लेकिन ये एक-दूसरे के बेस्टी भी हैं। लारा एक 40 वर्षीय आधुनिक महिला के किरदार में हैं और आप उनकी समस्याओं से काफी कुछ जोड़ पाएंगे। प्रतीक बब्बर का काम भी मजेदार है और लारा-प्रतीक जब भी पर्दे पर नजर आएंगे तो आपको मजा जरूर आएगा.

यह एक आधुनिक समय का कॉमेडी ड्रामा है, तो कुछ जगहों पर आपको ऐसा लग सकता है कि ‘यह कहाँ होता है, यह बहुत आधुनिक है…’। कुछ जगहों पर कहानी अपेक्षित हो जाती है। फिर भी यह एक मजेदार कॉमेडी सीरीज है और आपको इसे वीकेंड पर जरूर देखना चाहिए। इस वेब सीरीज को मेरी तरफ से 3.5 स्टार।

टैग: लारा दत्ता, प्रतीक बब्बर

,

हिचकी और हुकअप की समीक्षा: बॉलीवुड के बड़े सितारे इन दिनों वेब की दुनिया में कदम रख रहे हैं. फैंस रवीना टंडन, अजय देवगन, माधुरी दीक्षित जैसे सितारों के वेब की दुनिया में आने का इंतजार कर रहे हैं। लेकिन इस शुक्रवार बॉलीवुड एक्ट्रेस लारा दत्ता और प्रतीक बब्बर को आप उनकी नई वेब सीरीज ‘हिकअप्स एंड हुकअप्स’ में जरूर देख सकते हैं। 7 एपिसोड की ये वेब सीरीज आज लायंसगेट प्ले पर रिलीज हो गई है.

कहानी: यह कहानी है बैंगलोर में रहने वाली एक 39 वर्षीय सिंगल मदर वसुधा राव (लारा दत्ता) की, जो अपनी किशोर बेटी कावन्या खट्टर (शिनोवा) और छोटे भाई अखिल राव (शिनोवा) के साथ रहती है।प्रतीक बब्बर) साथ रहता है। अखिल कमिटमेंट से डरता है और कैजुअल रिलेशनशिप में ही विश्वास रखता है। इस सीरीज में इन तीनों की सेक्सुअल लाइफ और रिलेशनशिप की दुनिया को दिखाया गया है। पति के धोखे के बाद हाल ही में तलाक लेने वाली वसुधा 39 साल की उम्र में डेटिंग ऐप ‘केचप’ पर आती हैं। इस ऐप को अखिल ने ही बनाया है। मेरे भाई और दोस्त फातिमा (मीरा चोपड़ा) उसके कहने पर वसुधा इस डेटिंग ऐप का इस्तेमाल कैजुअल सेक्स के लिए करती है और उसके जीवन में कई रोमांच शुरू हो जाते हैं। वहीं दूसरी तरफ वसुधा की टीनएज बेटी भी अपनी डेटिंग लाइफ को लेकर कंफ्यूज है और अखिल अब जिंदगी में रहना चाहता है. यह वेब सीरीज इन तमाम रिश्तों की मजेदार कहानी है।

निर्देशक कुणाल कोहलीजो पहले ‘तुम और मैं‘ और ‘फनाह’ जैसा कि हम दिल को छू लेने वाली प्रेम कहानी लेकर आए हैं, इस बार हम वेब की दुनिया में एक नए जमाने का फनी ड्रामा लेकर आए हैं। इंटरनेट के कंटेंट को लेकर कई नियम नहीं हैं, ऐसे में आपको वेब शो में अश्लील भाषा से लेकर जबरदस्ती इंटीमेट सेक्स सीन तक बहुत कुछ देखने को मिल जाता है। लेकिन इस वेब सीरीज की सबसे अच्छी बात यह है कि इस सीरीज में कोई जबरदस्ती सेक्स सीन नहीं है जिसके टाइटल में ही ‘हुकअप’ का जिक्र हो। बल्कि ज्यादातर सीन कहानी की जरूरत को सपोर्ट करते नजर आते हैं और इसके लिए पूरे प्लॉट और डायरेक्टर कुणाल कोहली की तारीफ की जानी चाहिए। रिश्तों और कैजुअल सेक्स के इर्द-गिर्द बुनी गई यह कहानी इस विषय पर धीरे से कुछ नया करती है।

इस वेब सीरीज को लायंसगेट प्ले (Lionstage Play) पर रिलीज किया गया है।

दरअसल इस सीरीज के टाइटल में है कि ये फैमिली ‘नो फिल्टर’ है और ये आप शो देखकर कह सकते हैं. एक सीन में कावन्या अपने बॉयफ्रेंड के साथ कमरे में हैं और उनके मामा अखिल और मां वसुधा अपनी-अपनी डेट्स पर घर से बाहर जा रहे हैं। आप इस दृश्य से ही अंदाजा लगा सकते हैं कि यह परिवार कितना आधुनिक और अलग है। कई मजेदार सीन हैं जो आपको हंसाएंगे।

कहानी की असल जिंदगी लारा दत्ता और प्रतीक बब्बर के बीच मजेदार केमिस्ट्री और कूल रिलेशनशिप है। हालांकि ये दोनों भाई-बहन हैं लेकिन ये एक-दूसरे के बेस्टी भी हैं। लारा एक 40 वर्षीय आधुनिक महिला के किरदार में हैं और आप उनकी समस्याओं से काफी कुछ जोड़ पाएंगे। प्रतीक बब्बर का काम भी मजेदार है और लारा-प्रतीक जब भी पर्दे पर नजर आएंगे तो आपको मजा जरूर आएगा.

यह एक आधुनिक समय का कॉमेडी ड्रामा है, तो कुछ जगहों पर आपको ऐसा लग सकता है कि ‘यह कहाँ होता है, यह बहुत आधुनिक है…’। कुछ जगहों पर कहानी अपेक्षित हो जाती है। फिर भी यह एक मजेदार कॉमेडी सीरीज है और आपको इसे वीकेंड पर जरूर देखना चाहिए। इस वेब सीरीज को मेरी तरफ से 3.5 स्टार।

टैग: लारा दत्ता, प्रतीक बब्बर

,

Leave a Comment

close