Bollywood News

रणदीप हुड्डा ने दाता बीर कैर से पूरा किया था, जिसके लिए भाई ने अंतिम संस्कार किया था

ने दलबीर कैर से अपना वचन

:

रणदीप हुड्डा (रणदीप हुड्डा) ने सरबजीत सिंह (सरबजीत सिंह) की धुर बीर कैर (दलबीर कौर) का अंतिम संस्कार गीत गाने की धुन . कैर का को पोस्क के भोजन के लिए भोजन करने वाला हो गया था। डीप हुड्डा के साथ मधुर संबंध बन गया था, दल कैर ने अपने को देखा और से कंधा का अधिकार होगा। सरबजीत में रणदीप हुड्डा सरबजीत की नजर थी। बदलते समय के लिए.

इसके अलावा

हुड्डा ने आपका बैकअप लिया है I यह लिखा गया था, “जैसा भी लिखा गया था वैसा ही अंतिम बार सुना गया। यह भी लिखा नहीं गया था। भाई सरबजीत को बचाने वाले अपने लोगों से लड़ रहे हैं।”

रणदीप हुड्डा ने लिखा है, “मैं खुश हूं और खुश हूं। कोसंजो कर राय खेल, तांबीर की नृंखला.

मैं

ने दलबीर कैर से अपना वचन

:

रणदीप हुड्डा (रणदीप हुड्डा) ने सरबजीत सिंह (सरबजीत सिंह) की धुर बीर कैर (दलबीर कौर) का अंतिम संस्कार गीत गाने की धुन . कैर का को पोस्क के भोजन के लिए भोजन करने वाला हो गया था। डीप हुड्डा के साथ मधुर संबंध बन गया था, दल कैर ने अपने को देखा और से कंधा का अधिकार होगा। सरबजीत में रणदीप हुड्डा सरबजीत की नजर थी। बदलते समय के लिए.

इसके अलावा

हुड्डा ने आपका बैकअप लिया है I यह लिखा गया था, “जैसा भी लिखा गया था वैसा ही अंतिम बार सुना गया। यह भी लिखा नहीं गया था। भाई सरबजीत को बचाने वाले अपने लोगों से लड़ रहे हैं।”

रणदीप हुड्डा ने लिखा है, “मैं खुश हूं और खुश हूं। कोसंजो कर राय खेल, तांबीर की नृंखला.

मैं

Leave a Comment

close