Bollywood News

खाकी द बिहार चैप्टर रिव्यु: जानें कैसा है क्लिनेट सीरीज ‘खाकी: द बिहार

खाकी द बिहार चैप्टर की समीक्षा: वेब सीरीज के समान है

यह कैसे काम करता है:

समस्या होने की प्रबल संभावना है। फिर पांडेय ऐसे डायरेक्शन को पसंद करते हैं या फिर आइके कर रहे हैं रविवार से लेकर वेब सीरीज लेकर अपराधी और उनके सफाया करने वालों का फोकस इस पर है, हैं, हैं, हैं, हैं, हैं। हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं। नीरज क्रिएट क्रिएट क्रिएट क्रिएट ऐसी एक वेब सीरीज लेकर आए हैं जिसमें बिहार में पुलिस और अपराधियों के बीच को दिखाया गया है। ‘खाकी: द चैप्टर चैप्टर को धूलि द्रव्य ने निर्देशित किया है और रिफ्लेक्स स्ट्रेंथ पर रिलीज हुई है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है। है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है से से है। यह सीरीज आईपीएस मंत्री अधिकारी लोधा की कहानी है कि बिहार में पोस्टिंग होती है और किस तरह से प्रतिद्वंद्वी प्रतिस्पर्धी करता है है है है है है है है है है है है है है है है है है करता करता है करता है करता है करता है करता करता है। एक फ़िर से नीरज पाण्डेय और उनकी टीम दर्शकों को विशिष्ट वेब श्रृंखला देने के लिए तैयार है। यह सीरीज आईपीएस मंत्री अधिकारी लोधा की किताब बिहार डायज पर आधारित है।

यह कैसे काम करता है?

‘लाइक: द बिहार चैप्टर’ की कहानी आईपीएस अमित लोही की। वह पोस्टिंग पर आता है और वहां किसी अपराध की दुनिया को सफाया करने का फैसला करता है। कोई समस्या होने की अच्छी संभावना है। वहां हैं, है और कुछ ऐसे पुलिस अधिकारी हैं जो वास्तविक सत्य दोनों से नाता है है है है है है है है है है है है है है है है है है नाता नाता नाता नाता है यह अमित लोधा कई तरह के संघर्ष में खुद को फंसा हुआ पाता है, समय के साथ वह खुद में सुधार करता है और बिहार बिहार की दुनिया की दुनिया को समेटे हुए लग रहा है।

‘खाकी: द बिहार चैप्टर में एक्टिंग की बात करें करण तकर अमित लोढ़ा की किरदारों में खूब जमी हैं। अविनाश ने अपने चंदन महतो की कहानी को पूरी तरह से शिद्दत के साथ दिखाया है। उनके कई शेड्स शेड्स हैं और देखने को मिलता है कि किस तरह की स्थिति के चलते वह अपराध की दुनिया में पैर पसारता है है, है है है है, है है है है, हैर हैर हैर फिर उस पर हैलगत सिक लगतलगत लगीलगत लगी लगलगत लगीलगत लगलगत लगी लेटलगत । । लगतलगत लगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगंत ऐसे कई तरीके हैं जिनसे आप अपना पैसा कमा सकते हैं। आशुतोष ने पुलिस अधिकारियों की भूमिका और जान फूंककर रखी है। इस पुलिस और अपराध की दुनिया में इस क्राइम में थ्रिल थ्रिल थ्रिल थ्रिल थ्रिल थ्रिल में हर उत्तेजना का जादू मौजूद है।

विवरण: 3.5/5 मील
समारोह: नीरज पांडे
समारोह: वैसे भी
समारोह: करण टाकर, अविनाश तिवारी, आशुतोष राणा, निकिता दत्ता, रवि किशन किशन, सिंह सिंह अनूप सोनी सोनी सोनी विनय पाठक और शर श्रद्ध श्रद्ध श्रद्ध दास दास दास दास
कार्य: अधिक

दिन का विशेष रुप से प्रदर्शित वीडियो

अमिताभ बच्चन का चेहरा, नाम, आवाज़ बिना अनुमतस के

.

खाकी द बिहार चैप्टर की समीक्षा: वेब सीरीज के समान है

यह कैसे काम करता है:

समस्या होने की प्रबल संभावना है। फिर पांडेय ऐसे डायरेक्शन को पसंद करते हैं या फिर आइके कर रहे हैं रविवार से लेकर वेब सीरीज लेकर अपराधी और उनके सफाया करने वालों का फोकस इस पर है, हैं, हैं, हैं, हैं, हैं। हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं हैं। नीरज क्रिएट क्रिएट क्रिएट क्रिएट ऐसी एक वेब सीरीज लेकर आए हैं जिसमें बिहार में पुलिस और अपराधियों के बीच को दिखाया गया है। ‘खाकी: द चैप्टर चैप्टर को धूलि द्रव्य ने निर्देशित किया है और रिफ्लेक्स स्ट्रेंथ पर रिलीज हुई है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है। है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है है से से है। यह सीरीज आईपीएस मंत्री अधिकारी लोधा की कहानी है कि बिहार में पोस्टिंग होती है और किस तरह से प्रतिद्वंद्वी प्रतिस्पर्धी करता है है है है है है है है है है है है है है है है है है करता करता है करता है करता है करता है करता करता है। एक फ़िर से नीरज पाण्डेय और उनकी टीम दर्शकों को विशिष्ट वेब श्रृंखला देने के लिए तैयार है। यह सीरीज आईपीएस मंत्री अधिकारी लोधा की किताब बिहार डायज पर आधारित है।

यह कैसे काम करता है?

‘लाइक: द बिहार चैप्टर’ की कहानी आईपीएस अमित लोही की। वह पोस्टिंग पर आता है और वहां किसी अपराध की दुनिया को सफाया करने का फैसला करता है। कोई समस्या होने की अच्छी संभावना है। वहां हैं, है और कुछ ऐसे पुलिस अधिकारी हैं जो वास्तविक सत्य दोनों से नाता है है है है है है है है है है है है है है है है है है नाता नाता नाता नाता है यह अमित लोधा कई तरह के संघर्ष में खुद को फंसा हुआ पाता है, समय के साथ वह खुद में सुधार करता है और बिहार बिहार की दुनिया की दुनिया को समेटे हुए लग रहा है।

‘खाकी: द बिहार चैप्टर में एक्टिंग की बात करें करण तकर अमित लोढ़ा की किरदारों में खूब जमी हैं। अविनाश ने अपने चंदन महतो की कहानी को पूरी तरह से शिद्दत के साथ दिखाया है। उनके कई शेड्स शेड्स हैं और देखने को मिलता है कि किस तरह की स्थिति के चलते वह अपराध की दुनिया में पैर पसारता है है, है है है है, है है है है, हैर हैर हैर फिर उस पर हैलगत सिक लगतलगत लगीलगत लगी लगलगत लगीलगत लगलगत लगी लेटलगत । । लगतलगत लगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगतलगंत ऐसे कई तरीके हैं जिनसे आप अपना पैसा कमा सकते हैं। आशुतोष ने पुलिस अधिकारियों की भूमिका और जान फूंककर रखी है। इस पुलिस और अपराध की दुनिया में इस क्राइम में थ्रिल थ्रिल थ्रिल थ्रिल थ्रिल थ्रिल में हर उत्तेजना का जादू मौजूद है।

विवरण: 3.5/5 मील
समारोह: नीरज पांडे
समारोह: वैसे भी
समारोह: करण टाकर, अविनाश तिवारी, आशुतोष राणा, निकिता दत्ता, रवि किशन किशन, सिंह सिंह अनूप सोनी सोनी सोनी विनय पाठक और शर श्रद्ध श्रद्ध श्रद्ध दास दास दास दास
कार्य: अधिक

दिन का विशेष रुप से प्रदर्शित वीडियो

अमिताभ बच्चन का चेहरा, नाम, आवाज़ बिना अनुमतस के

.

Leave a Comment

close