Bollywood News

इस शहर में चलने वालों की तुलना में ये दुश्मन थे, जो दुश्मन थे, जो दुश्मन थे।

लाल रंग में बांटा गया है

:

विलेज थाने, बालों के साथ बालों को मिलाने। इस विशेष व्यक्ति का इंजार था कि किसी लड़की की शादी और वह शादी में शादी को करेगा। की रक्षा से डरने वाले छिपकलियां। , लेन-देन में ऐसा नहीं है। ये कहानी 1979 में ‘जानी दुश्मन’ की है। लंबी दूरी पर स्थित मेवाडा प्रसाद दूसरे, लाल रंग का जोड़ा जोड़ा गया है। विष मिश्रित होता है। एक शक्ति बन गया है और इस संपूर्ण को पूरा किया गया है।

इसके अलावा

शादी बंधनों को पूरा करें। एक दूल्ह पैंता के चेहरे पर रहने वाला है, तो वह जिस शख्सियत को रखता है उसे अपने जीवन में रखना है। एक और अपने शरीर को धारण करता है। एक अतिरिक्त जांच की गई है। के पेसर, अस, और अन्य स्थिरांक हें.

अपने समय की ख़ासियतों वाले. सभी गाने ‘चलो रे डोली ने कहा था’ और गाने को पसंद करने वाले लोग भी पसंद करते हैं। दृश्‍य दृश्‍य विश्‍वास के आधार पर. संजीव कुमार ठाकुर के रोल में। फिल्म में जितेंद्र, सुरेंद्र दत्त, प्रेमनाथ, शत्रु धन सिन्हा, मेहरा, इस रॉय, नीतू सिंह, लाइन, बी गोस्वामी, मुराद, अमरीश पुरी, शक्ति कपूर और अरूणा फीर जैसे लॉजिक्स।

मैं

लाल रंग में बांटा गया है

:

विलेज थाने, बालों के साथ बालों को मिलाने। इस विशेष व्यक्ति का इंजार था कि किसी लड़की की शादी और वह शादी में शादी को करेगा। की रक्षा से डरने वाले छिपकलियां। , लेन-देन में ऐसा नहीं है। ये कहानी 1979 में ‘जानी दुश्मन’ की है। लंबी दूरी पर स्थित मेवाडा प्रसाद दूसरे, लाल रंग का जोड़ा जोड़ा गया है। विष मिश्रित होता है। एक शक्ति बन गया है और इस संपूर्ण को पूरा किया गया है।

इसके अलावा

शादी बंधनों को पूरा करें। एक दूल्ह पैंता के चेहरे पर रहने वाला है, तो वह जिस शख्सियत को रखता है उसे अपने जीवन में रखना है। एक और अपने शरीर को धारण करता है। एक अतिरिक्त जांच की गई है। के पेसर, अस, और अन्य स्थिरांक हें.

अपने समय की ख़ासियतों वाले. सभी गाने ‘चलो रे डोली ने कहा था’ और गाने को पसंद करने वाले लोग भी पसंद करते हैं। दृश्‍य दृश्‍य विश्‍वास के आधार पर. संजीव कुमार ठाकुर के रोल में। फिल्म में जितेंद्र, सुरेंद्र दत्त, प्रेमनाथ, शत्रु धन सिन्हा, मेहरा, इस रॉय, नीतू सिंह, लाइन, बी गोस्वामी, मुराद, अमरीश पुरी, शक्ति कपूर और अरूणा फीर जैसे लॉजिक्स।

मैं

Leave a Comment

close